From Principal’s Desk

Principal's Message

principalजल रही है पृथ्वी जल रहा आसमाँ 

                                   जल रहा है जन मन जल रहा सारा जहाँ ।

हर तरफ हाहाकार है हृदय विदारक चीत्कार है

                                               रुह को भी जो कपां दे फैला वो अंधकार है ।

आतंकवाद का है कहर बेईमानी का बोलबाला

                                               नफरत की इस आंधी में ईमान ने हथियार डाला ।

                                                                       सूरज की लालिमा दब गई खून की होली में

                                                                                                                       पवन का वो शीतल झोंका बह गया बवंडर में ।

                                                                        ऐसे दर्द के आगे तो माँ के भी आँसू बह निकले

                                                                                                                        सम्भल जाओ अब भी तुम धरती को रौदने वाले ।

                                                                        होता है संहार दुष्टों का हर हाल में

                                                                                                                         माँ जिसने जन्म दिया पहुँचा ना दे तुझे काल में ।

                                                                         ना लो परीक्षा संयम की अब इन्तहाँ हो चुकी

                                                                                                                           आने दो उजियारा फैलने दो खुशी ।

                                                                         सूरज की लालिमा जब ऊपर आयेगी

                                                                                                                             ठण्डी पवन झोंको से मन शीतल कर जायेगी

                                                                        शान्ती होगी इस विश्व में खुशहाली छायेगी

                                                                                                            तभी मेरी माँ के भी चेहरे पे मुस्कान आयेगी ।

                                                                                                                                                                               निवेदिता कौशिक